Corona को लेकर पीएम मोदी ने कहा- 'जब तक दवाई नहीं, तब तक कोई ढिलाई नहीं'


एक ओर जहां कोरोना महामारी के मामले बढ़त की ओर ही लगातार नजर आ रहे हैं, वहीं पीएम स्थिति की गंभीरता को देखते हुए देशवासयों को एक नई सीख दी है। उन्होंने कहा है कि जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं। साथ ही उन्होंने दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी का नारा भी याद दिलाया। यह तो सही है कि दुनिया भर में तमाम कोशिशों के बाद भी कहीं एक कारण से तो कहीं दूसरे कारणों से कोरोना की दवाई अभी तक खोजी नहीं जा सकी है।

कुछ एक देशों जैसे रूस ने वैक्सीन ईजाद करने का दावा किया है लेकिन उस पर भी तमाम तरह की बातें हो रही हैं। अब दवाई न होने पर तो बचाव की शर्त और भी मजबूत हो जाती है क्योंकि ऐसा न होने पर तो महामारी की चपेट में आ ही जाएंगे। इसीलिए पीएम ने कोरोना से सतर्क रहने की अपील देशवासियों से की है।

आपदा को अवसर की सोच का जिक्र करते हुए उन्होंने उदाहरण दिया कि कोरोना काल में प्रधानमंत्री आवास योजना का काम तेज गति से हुआ और शहरों से गांवों की ओर लौटे लोगों ने सरकार की सोच को साकार किया। उन्होंने बताया कि आमतौर पर जो प्रधानमंत्री आवास एक सौ पचीस दिन में बनता था, वह कोरोना काल में मात्र पैंतालीस से साठ दिनों में ही तैयार हो गया। इस तरह जरूरत यह देखने की है कि किसी कार्य में प्रवृत कैसे हुआ जाता है। यही बात उस कार्य की उत्कृष्टता को निर्धारित करती है। फिलहाल पीएम की नई सीख पर अमल की जरूरत है।